October 19, 2020

सनराइजर्स हैदराबाद के सामने पटरी पर लौट पाएगी चेन्नई एक्सप्रेस?

1 min read
Sunrisers Hyderabad vs Chennai SuperKings

Sunrisers Hyderabad vs Chennai Superkings Indian Premier League 2020 – दुबई। विश्व क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर माने जाने वाले महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली टीम चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद मंगलवार को दुबई में आमने सामने होंगी और इन दोनों का लक्ष्य अपना अभियान फिर से पटरी पर लाना होगा।

सनराइजर्स हैदराबाद का अब तक का सफर उतार चढ़ाव वाला रहा है जबकि चेन्नई सुपर किंग्स ख्याति के अनुरूप प्रदर्शन करने में असफल रहा है। ऐसे में जब टीमें लीग चरण का आधे पड़ाव पर पहुंच चुकी हैं तब तीन बार के चैंपियन चेन्नई को जल्द से जल्द अपनी खामियों को दूर करने की जरूरत है।

टीमों की स्थिति

चेन्नई सुपर किंग्स ने अब तक सात मैच खेले हैं जिसमें उसने दो में जीत हासिल की है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उसने अपने पांचों मैच लक्ष्य का पीछा करते हुए गंवाये हैं जबकि चेन्नई को बाद में बल्लेबाजी करते हुए जीत दर्ज करने के लिये जाना जाता है। चेन्नई के अभी चार अंक हैं और वह आठ टीमों के टूर्नामेंट में सातवें स्थान पर है।

सनराइजर्स हैदराबाद की स्थिति कमोबेश थोड़ा बेहतर है। उसने भी सात मैच खेले हैं लेकिन उसने तीन मैचों में जीत हासिल की है। डेविड वार्नर की कप्तानी वाली टीम के छह अंक हैं और वह पांचवें स्थान पर है। हैदराबाद की टीम जीत की लय हासिल करने के लिये बेताब होगी।

मजबूत पक्ष

चेन्नई सुपर किंग्स की गेंदबाजी अपने प्रतिद्वंद्वी की तुलना में मजबूत लगती है। दीपक चाहर और रविंद्र जडेजा ने अब तक अच्छी गेंदबाजी की है। सैम करेन और शार्दुल ठाकुर को उनसे प्रेरणा लेने की जरूरत है।

सनराइजर्स हैदराबाद का शीर्ष क्रम मजबूत है जिसमें कप्तान डेविड वार्नर, जोनी बेयरस्टा, मनीष पांडे और केन विलियमसन शामिल हैं। इन चारों ने अब तक अच्छे रन बनाये हैं।

कमजोर पक्ष

 गेंदबाजी हैदराबाद का कमजोर पक्ष बन गया है। भुवनेश्वर कुमार और मिशेल मार्श के चोटिल होने के कारण बाहर हो जाने से उसकी मारक क्षमता कमजोर पड़ गयी है। अफगानिस्तान के लेग स्पिनर राशिद खान अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन वह केवल चार ओवरों की जिम्मेदारी निभा सकते हैं। टी नटराजन ने भी अपने यार्कर से प्रभावित किया है लेकिन संदीप शर्मा, सिद्धार्थ कौल, खलील अहमद टीम की कमजोरी साबित हुए हैं।

चेन्नई की कमजोरी उसकी बल्लेबाजी है। शेन वाटसन और फाफ डुप्लेसिस तो अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन बाकी बल्लेबाज नहीं चल पा रहे हैं। धोनी ने भी कहा है कि बल्लेबाजी उनके लिये चिंता का विषय है और उन्हें इस पर कुछ करने की जरूरत है। 

पिच रिपोर्ट

हैदराबाद ने दुबई में अब तक चार मैच खेले हैं और उसकी टीम यहां की पिच और परिस्थितियों को अच्छी तरह से जानती है। हैदराबाद ने यहां दो मैच जीते हैं तो दो में उसे हार मिली है। चेन्नई ने भी दुबई में चार मैच खेले हैं लेकिन इनमें से वह केवल एक मैच जीत पाया है। इन दोनों टीमों के बीच पिछला मैच भी दुबई में खेला गया था जिसे हैदराबाद ने सात रन से जीता था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *