November 27, 2020

लगातार आठवीं बार ख़िताब तक नहीं पहुंच सके विराट

1 min read
SRH beat RCB

भारतीय कप्तान विराट कोहली का बड़े टूर्नामेंटों में खिताब न जीत पाने का सिलसिला आईपीएल-13 में भी बरकरार रहा और उनकी टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु प्लेऑफ के एलिमिनेटर में हारकर बाहर हो गयी। विराट की कप्तानी में यह लगातार आठवां साल है जब बेंगलुरु ख़िताब से दूर रही है। विराट की कप्तानी में बेंगलुरु टीम सिर्फ एक बार 2016 के फाइनल में पहुंची थी लेकिन तब भी उसे सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों हार का सामना करना पड़ा था।

अपनी टीम की हार के लिए विराट खुद दोषी रहे। टीम को जब उनसे एक बड़ी पारी की जरूरत थी तो वह सात गेंदों में छह रन बनाकर आउट हो गए। विराट ने इस मैच से एक दिन पहले अपना जन्मदिन मनाया था लेकिन एक दिन बाद वह खुद को जन्मदिन का तोहफा नहीं दे सके।

बेंगलुरु अपने आखिरी चार लीग मैच हारने के बाद प्लेऑफ में पहुंची थी जबकि हैदराबाद अपने आखिरी तीन लीग मैच जीतकर प्लेऑफ में पहुंची थी। यह भी दिलचस्प था कि हैदराबाद ने अपने आखिरी तीन मैचों में प्लेऑफ में पहुंची अन्य तीनों टीमों को हराया था और एलिमिनेटर में भी उसने बेंगलुरु को फिर हरा दिया। मुकाबला संघर्षपूर्ण था लेकिन आखिर में बेंगलुरु के पास रन कम रह गए। बेंगलुरु ने यदि 150 का स्कोर भी बनाया होता तो हैदराबाद के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती थीं।

हैदराबाद ने बेंगलुरु को सात विकेट पर 131 रन के स्कोर पर रोका और फिर 19.4 ओवर में चार विकेट पर 132 रन बनाकर रोमांचक जीत हासिल कर ली। अनुभवी केन विलियम्सन ने नाबाद 50 रन की मैच विजयी पारी खेली और प्लेयर ऑफ द मैच भी बने। आलराउंडर जैसन होल्डर (25 रन पर तीन विकेट और नाबाद 24) ने हैदराबाद की जीत में महत्वपूर्ण योगदान दिया। हैदराबाद ने इस जीत से क्वालीफायर दो में जगह बना ली जहां आठ नवम्बर को अबु धाबी में ही उसका दिल्ली कैपिटल्स के साथ मुकाबला होगा और इस मुकाबले की विजेता टीम 10 नवम्बर को फाइनल में गत चैंपियन मुंबई इंडियंस से भिड़ेगी।

वार्नर ने इस आईपीएल में 11वीं बार टॉस जीता। इससे पहले मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने 2017 में और चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने 2018 में 11 बार टॉस जीता था और दोनों टीमों ने आगे चलकर खिताब जीता था। क्या वार्नर के लिए भी यह आंकड़ा भाग्यशाली हो पायेगा, यह देखना दिलचस्प होगा।

बेंगलुरु की तरफ से एबी डिविलियर्स ने एकतरफा संघर्ष करते हुए 43 गेंदों में पांच चौकों की मदद से सर्वाधिक 56 रन बनाये जबकि आरोन फिंच ने 30 गेंदों पर 32 रन में तीन चौके और एक छक्का लगाया।

विलियम्सन ने 20 वें ओवर की पहली गेंद पर सिंगल लेकर अपना अर्धशतक पूरा कर लिया। होल्डर ने तीसरी गेंद पर चौका जड़ दिया और फिर अगली गेंद पर चौका मारकर मैच समाप्त कर दिया। होल्डर ने विजयी शॉट मारने के बाद विलियम्सन को गले लगा लिया और हैदराबाद का पूरा खेमा ख़ुशी से झूम उठा।

विलियम्सन ने 44 गेंदों पर नाबाद मैच विजयी 50 रन में दो चौके और दो छक्के लगाए जबकि होल्डर ने 20 गेंदों पर नाबाद 24 रन में तीन चौके लगाए। विलियम्सन और होल्डर ने पांचवें विकेट के लिए 65 रन की मैच विजयी साझेदारी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *